महिला पुलिस अफसर ने बच्ची से कहा- बोल कि इस नेता ने तेरा रेप किया, झूठ नहीं बोलने पर जेल में डाला

कोर्ट ने कहा है कि महिला पुलिस अधिकारी ने अपने अधिकारों का दुरुपयोग किया है. साथ ही उन्होंने लड़की के मूलभूत अधिकारों का भी हनन किया है.
Sri Lanka, महिला पुलिस अफसर ने बच्ची से कहा- बोल कि इस नेता ने तेरा रेप किया, झूठ नहीं बोलने पर जेल में डाला

नई दिल्ली: श्रीलंका में सुप्रीम कोर्ट ने एक महिला पुलिस अधिकारी को 15 साल की नाबालिग बच्ची को गैरकानूनी ढंग से हिरासत में रखने के मामले में सजा सुनाई है. कोर्ट ने महिला पुलिस अधिकारी की तरफ से पीड़िता को 1 लाख रुपये दिए जाने का भी आदेश दिया है. साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा है कि इसमें से 50 हजार रुपये तुरंत दिए जाएं.

परिजनों को डराने-धमकाने का आरोप
तीन जजों की पीठ ने कहा है कि महिला पुलिस अधिकारी ने अपने अधिकारों का दुरुपयोग किया है. साथ ही उन्होंने लड़की के मूलभूत अधिकारों का भी हनन किया है. कोर्ट ने महिला अधिकारी द्वारा पीड़िता के परिवार वालों को डराने-धमकाने की बात भी कही है.

महिला चीफ इंस्पेक्टर वारुणी बोगहावट्टे पर आरोप है कि उन्होंने बच्ची पर यह स्वीकार करने के लिए बार-बार दबाव डाला कि एक स्थानीय राजनेता ने उससे रेप किया है. ऐसा नहीं करने पर उन्होंने बच्ची का कई बार मेडिकल कराया जिससे कि यह साबित किया जा सके कि उसका यौन उत्पीड़न किया गया है.

मेडिकल टेस्ट में नेगेटिव आई रिपोर्ट
पीड़िता ने बयान दर्ज कराया है कि उस उसने इस बात से इनकार किया कि उसका रेप नहीं हुआ है तो उसे मटारा पुलिस स्टेशन में गैरकानूनी रूप से बंद कर दिया है. इसके अलावा पीड़िता का चार बार मेडिकल भी करवाया गया जिसमें रिपोर्ट नेगेटिव रही.

मालूम हो कि वारुणी को साल 2017 में सर्वेश्रेष्ठ महिला पुलिस अधिकारी का पुरस्कार दिया गया था. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कोर्ट के इस फैसले के बाद उनको दिया गया अवॉर्ड वापस लिया जाएगा. साथ ही उनकी नौकरी भी जा सकती है.

ये भी पढ़ें-

स्पेन से इंटर्नशिप करने आई युवती का गुरुग्राम में हुआ रेप, आरोपी गिरफ्तार

पीएम मोदी ने कृषि में बुनियादी सुधारों के लिए कई राज्यों के सीएम समेत गठित की समिति

राज्यसभा की 6 सीटों के लिए 5 जुलाई को होंगे उपचुनाव: चुनाव आयोग

Related Posts