11 लोगों को स्विस बैंक ने भेजा नोटिस, भारत के साथ जल्द ही कर सकता है जानकारी साझा

नोटिस में अकाउंट होल्डर्स से यह पूछा गया है कि भारत के साथ जानकारी साझा करने में उन्हें क्या आपत्ति है. अगर उन्हें कोई आपत्ति है तो वह 30 दिन के भीतर इसके खिलाफ अपील कर सकते हैं.

नई दिल्ली: काला धन शब्द जैसे ही जेहन में आता है वैसे ही स्विट्जरलैंड के स्विस बैंक का नाम भी याद आ जाता है. हालांकि पिछले कुछ वर्षों से सरकार ने स्विट्जरलैंड में मौजूद भारतीय अकाउंट होल्डर्स के नाम साझा करने के लिए उसपर दवाब बनाया है. ऐसे में यह जानकारी मिली है कि स्विस बैंक ने पिछले सप्ताह ही लगभग एक दर्जन भारतीय अकाउंट होल्डर्स को नोटिस जारी किया है.

मार्च महीने से लेकर अबतक करीब 25 भारतीय अकाउंट होल्डर्स को ये बैंक नोटिस जारी कर चुका है. नोटिस में अकाउंट होल्डर्स से यह पूछा गया है कि भारत के साथ जानकारी साझा करने में उन्हें क्या आपत्ति है. साथ ही अकाउंट होल्डर्स को भारत के साथ जानकारी साझा करने के खिलाफ अपील करने को लेकर भी आखिरी मौका दिया गया है.

पिछले सप्ताह से इस कवायद में तेजी दिखाने वाले स्विस बैंक ने सिर्फ 21 मई को ही करीब 11 भारतीय अकाउंट होल्डर्स को नोटिस भेजा. इन लोगों में से सिर्फ दो के नाम ही सार्वजनिक किए गए हैं. उनमें से एक हैं कृष्ण भगवान राममचंद और कल्पेश हर्षद किनारीवाला. इन दोनों के नाम और जन्मतिथि के अलावा कोई और अतिरिक्त जानकारी साझा नहीं की गई है.

जिन लोगों को नोटिस जारी किए गए हैं उन्हें 30 दिनों की मोहलत दी गई है. अगर ये अकाउंट होल्डर्स 30 दिन के भीतर अपील नहीं करते हैं तो स्विस बैंक भारत के साथ उनके अकाउंट की जानकारी साझा कर सकता है.

ये भी पढ़ें: अमेठी पहुंचीं स्मृति ईरानी, BJP कार्यकर्ता की अर्थी को दिया कंधा