सीरियाई शख्स ने जर्मनी में चोरी के ट्रक से कारों को मारी टक्कर, 17 लोग जख्मी

जर्मनी के हेसे राज्य के आंतरिक मंत्री पीटर बेउथ के मुताबिक हादसा बरलिन में हुए हमले की तरह ही था लेकिन इसके पीछे का मकसद अभी साफ नहीं है.

जर्मनी पुलिस के मुताबिक सोमवार को जर्मन शहर लिम्बर्ग में एक चोरी का ट्रक चला रहे सीरियाई शख्स ने कई कारों में टक्कर मार दी, जिसके चलते 17 लोग घायल हो गए हैं. ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है, जो खुद भी इस टक्कर में घायल हो गया था.

हेसे राज्य के आंतरिक मंत्री पीटर बेउथ के मुताबिक हादसा बरलिन में हुए हमले की तरह ही था लेकिन इसके पीछे का मकसद अभी साफ नहीं है. जांचकर्ताओं के मुताबिक 32 वर्षीय संदिग्ध का संभावित हिंसक इस्लामवादियों से कोई संबंध नहीं है. आतंकवादी मामलों के लिए जिम्मेदार संघीय अभियोजक के कार्यालय ने अब तक मामले का प्रभार नहीं लिया है.

ट्रैफिक लाइट पर रुकी कारों में मारी टक्कर

पुलिस ने एक बयान में कहा, “हमें अब तक जो कुछ भी पता चला है और कई गवाहों से बातचीत के आधार पर आदमी ने स्थानीय समय के मुताबिक लगभग 5 बजकर 20 मिनट पर ट्रक से कारों को टक्कर मारी. पुलिस के मुताबिक, लिम्बर्ग रेलवे स्टेशन के पास एक ट्रैफिक लाइट पर रुकी आठ कारों को ट्रक ड्राइवर ने टक्कर मार कर कुचल दिया.

इस टक्कर में घायल हुए लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है, जिनमें से एक की हालत गंभीर बनी हुई है. वेस्ट हेसे पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि वे इस घटना के पीछे सभी संभावित उद्देश्यों की तलाश मे जुटे हैं, लेकिन उन्होंने कहा “फिलहाल हमारे पास इसके बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है.”

पुलिस ने अफवाह न फैलाने की अपील की

जर्मन समाचार एजेंसी डीपीए ने बताया कि जब एक रिपोर्टर से पूछा गया कि क्या आतंकवाद एक संभावित मकसद था, तो पुलिस ने कहा, “हम अभी कुछ भी नहीं बता सकते हैं.”

क्षेत्रीय पुलिस ने ट्वीट कर जनता से आग्रह किया कि वे इस घटना के मकसद के बारे में अनुमान न लगाएं. पुलिस ने ट्वीट करते हुए अपील की कि, “किसी को ट्रोल करने या गलत अटकलें नहीं लगानी चाहिए.” पुलिस ने यह भी पुष्टि की कि किसी घटना में ड्राइवर को गिरफ्तार करना सामान्य प्रक्रिया का हिस्सा है. जांच जारी है. 35,000 निवासियों के इस जर्मन शहर में घटना के बाद पुलिस अधिकारियों ने एक हेलीकॉप्टर को तैनात कर दिया है.

ये भी पढ़ें: फ्रांस ने भारत को सौंपा पहला राफेल, गिरिराज ने पूछा पहला गोला कब खाएगा पाकिस्तान