ये कैसी पढ़ाई: छात्रों को जंजीरों से बांधा, क्लास में कराई शिक्षक ने नीलामी

यह घटना वेस्टचेस्टर काउंटी में स्थित 'द चैपल स्कूल नामक' एक निजी स्कूल में कक्षा पांच की दोनों कक्षाओं में सामाजिक अध्ययन के दौरान हुई.

न्यूयॉर्क: शिक्षक बच्चों के भविष्य निर्माण में एक अहम भूमिका निभाता है लेकिन न्यूयॉर्क में एक टीचर का उसके छात्रों के साथ बर्ताव उन्हें जिंदगी भर के लिए एक बुरी याद दे सकता है. दरअसल टीचर स्कूल के अमेरिकन-अफ्रीकन छात्रों संग बेहद ही बुरा बर्ताव करता था. उनसे इस तरीके से पेश आता था जैसे कि वे बच्चे उसके दास हों.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह घटना वेस्टचेस्टर काउंटी में स्थित ‘द चैपल स्कूल नामक’ एक निजी स्कूल में कक्षा पांच की दोनों कक्षाओं में सामाजिक अध्ययन के दौरान हुई, सीएनएन ने गुरुवार को इस खबर की जानकारी दी.

उस टीचर ने सबसे पहले सभी कक्षाओं में अफ्रीकन-अमेरिकन स्टूडेंट्स को अपना हाथ उठाने को कहा और इसके बाद उन्हें कॉरिडर में खड़े होने का निर्देश दिया. वहां टीचर ने उन सभी स्टूडेंट्स के गर्दन, कलाई और एड़ियों को एक काल्पनिक जंजीरों से बांधकर उन्हें कक्षा में वापस जाकर दीवार के सहारे खड़े रहने का निर्देश दिया.

इसके बाद, कक्षा में उपस्थित बाकी सभी छात्रों के सामने एक नकली व काल्पनिक नीलामी का आयोजन किया. 18वीं और 19वीं शताब्दी में सफेद बागान के मालिकों को अफ्रीकन बेचे जाते थे और इसी घटना को चित्रित करने का प्रयास इस टीचर ने किया. हालांकि कक्षा में इस तरह का अभ्यास कराने के लिए उस टीचर को स्कूल से निकाल दिया गया.

एटर्नी जनरल ने कहा नस्ल के आधार पर पढ़ाना गलत

न्यूयॉर्क एटर्नी जनरल के कार्यालय की एक जांच में पाया गया कि इसका कक्षा में उपस्थित सभी छात्रों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा खासकर अफ्रीकन-अमेरिकन छात्र इससे ज्यादा प्रभावित हुए. एटर्नी जनरल लेटिटिआ जेम्स ने गुरुवार को एक बयान में कहा, “जाति की परवाह किए बिना हर युवा, किसी उत्पीड़न, पूर्वाग्रह और भेदभाव से मुक्त स्कूल जाने के लिए समान रूप से हकदार हैं.”

उन्होंने आगे यह भी कहा कि नस्ल के आधार पर बच्चों को अलग कर पाठ का अभ्यास करने की जगह न तो न्यूयॉर्क के किसी क्लासरूम में है और न ही पूरी दुनिया के किसी और क्लासरूम में है.

ये भी पढ़ें: बदला जा सकता है ‘भारत’ का नाम, हाईकोर्ट में दर्ज हुई याचिका