‘भारत में आतंकी चांद से नहीं आते’, कश्‍मीर पर यूरोपीय यूनियन की पाकिस्‍तान को फटकार

बुधवार को यूरोपीय यूनियन पार्लियामेंट में पाकिस्‍तान को स्‍पष्‍ट संदेश दिया गया कि कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाया जाना, भारत का आंतरिक मामला है.

नई दिल्‍ली: जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद कश्‍मीर मुद्दे पर समर्थन पाने के लिए छटपटा रहे पाकिस्‍तान को एक और झटका लगा है. यूरोपीय यूनियन ने पाकिस्‍तान को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि भारत में जो आतंकी भेजे जाते हैं, वो चांद से नहीं आते हैं बल्कि पड़ोसी देश (पाकिस्‍तान) उन्‍हें भेजता है.

फ्रांस के स्‍ट्रॉसबर्ग में यूरोपीय यूनियन की संसद में ‘Situation in Kashmir’ विषय पर एक सेशन रखा गया. यूरोपीय यूनियन में 11 साल बाद कश्‍मीर पर चर्चा हुई. इससे पहले 2008 में यूरोपीय यूनियन ने कश्‍मीर पर चर्चा की थी.

बुधवार को यूरोपीय यूनियन पार्लियामेंट में पाकिस्‍तान को स्‍पष्‍ट संदेश दिया गया कि कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाया जाना, भारत का आंतरिक मामला है, इससे पाकिस्‍तान का कोई लेना-देना नहीं है.

यूरोपीय यूनियन में पोलैंड के सांसद रेजार्ड जार्नेकी ने कश्मीर पर बहस कहा, ‘भारत दुनिया के महान लोकतंत्रों में एक है. भारत और जम्मू-कश्मीर में हो रही आतंकी गतिविधियों पर भी ध्यान देने की जरूरत है. ये आतंकवादी चांद से नहीं उतर रहे हैं. ये पड़ोसी मुल्क से आ रहे हैं. हम भारत का समर्थन करना चाहिए.’

इटली के सांसद फुल्वियो मार्तुससियलो ने कहा कि पाकिस्‍तान लगातार परमाणु हथियारों से हमले की धमकी दे रहा है. पाकिस्‍तान वो जगह है, जहां से खूंखार आतंकी यूरोप तक हमले की साजिश रचने में सक्षम हैं.

कश्‍मीर मुद्दे पर चर्चा के दौरान यूरोपीय यूनियन ने भारत-पाकिस्‍तान से शांति के लिए बातचीत करने की भी अपील की.