साहित्य का नोबेल पुरस्कार: मां की खुदकुशी पर किताब लिखने वाले पीटर हैंडके को मिला सम्मान

नोबेल पुरस्कार के विजेता को इनाम में करीब साढ़े चार करोड़ रुपए 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पदक और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है.
Nobel Prize, साहित्य का नोबेल पुरस्कार: मां की खुदकुशी पर किताब लिखने वाले पीटर हैंडके को मिला सम्मान

स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में गुरुवार को साहित्य के क्षेत्र में दिए जाने वाले नोबल पुरस्कार की घोषणा की गई है. ये सम्मान साल 2018 के लिए पॉलिश लेखिका ओल्गा तोकारजुक और 2019 के लिए ऑस्ट्रियाई लेखक पीटर हैंडके को दिया जाएगा.

बता दें कि पिछले साल यौन उत्पीड़न के मामले को लेकर साहित्य के नोबेल की घोषणा स्थगित कर दी गई थी. इसलिए इस साल नोबल पुरस्कार के लिए दो नामों की घोषणा हुई है.

कौन हैं ओल्गा और पीटर?

57 वर्षीय ओल्गा एक पॉलिश राइटर हैं. कमर्शियली वो अपनी पीढ़ी की सबसे सफल लेखिकाओं में से एक हैं. उन्हें नॉवेल फ्लाइट्स के लिए ‘मैन बुकर इंटरनैशनल प्राइज’ से भी सम्मानित किया जा चुका है.

वहीं, 76 साल के पीटर हैंडके ऑस्ट्रियाई उपन्यासकार, प्लेराइट और ट्रांसलेटर हैं. साल 1966 में पीटर ने पहला नॉवेल ‘डाई हॉर्निसन’ लिखा था. उन्होंने अपनी मां की खुदकुशी से प्रभावित होकर ‘द सॉरो बियॉन्ड ड्रीम्स’ किताब लिख डाली थी. पीटर फिल्म की स्क्रिप्ट भी लिखी है. उनकी लिखी एक फिल्म 1978 के कान फेस्टिवल और 1980 के गोल्ड अवॉर्ड के लिए नॉमिनेट हुई थी.

इससे पहले मेडिकल के क्षेत्र में साल का पहला नोबल पुरस्कार दिया गया. ये सम्मान अमेरिका के विलियम जी. केलिन जूनियर और ब्रिटेन के सर पीटर जे. रेटक्लिफ और अमेरिका के ग्रेग एल सेमेन्जा को संयुक्त रूप से दिया जाएगा.

तीनों शख्सियत को यह पुरस्कार बॉडी सेल्स में जीवन और ऑक्सिजन को ग्रहण करने की क्षमता में की गई महत्वपूर्ण खोज के लिए दिया जा रहा है.

बता दें कि नोबेल पुरस्कार के विजेता को इनाम में करीब साढ़े चार करोड़ रुपए 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पदक और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है. इस पुरस्कार का जनक अल्फ्रेड नोबेल को माना जाता है.

ये भी पढ़ें- टूरिस्ट्स के स्वागत के लिए फिर तैयार ‘जन्नत’, जम्मू-कश्मीर में दो महीने से लगी पाबंदी हटी

Related Posts