“बेचा नहीं गया तो कर देंगे बैन”, ट्रंप के इस आदेश के खिलाफ TikTok ने दी कोर्ट जाने की धमकी

चीन (China) ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए अपनी गलती सुधारने को कहा है. चीन ने कहा कि चीनी एप्स को ब्लॉक करने का अमेरिका का कदम मार्केट प्रिंसिपल के खिलाफ है.

चीन के वीडियो एप TikTok  ने शुक्रवार को अमेरिकी अदालतों में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump)  के कार्यकारी आदेश के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी दी है, जिसमें कहा गया है, “अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने आदेश जारी किया है कि अगर चीन (China) की मूल कंपनी बाइटडांस (ByteDance) सोशल मीडिया एप टिकटॉक (TikTok) को नहीं बेचती है, तो 45 दिनों में अमेरिका में इसका संचालन बैन कर दिया जाएगा.”

टिकटॉक ने कहा, “हम यह सुनिश्चित करने के लिए हमारे पास उपलब्ध सभी उपायों का पालन करेंगे कि कानून का सही तरीके से पालन किया जाए और हमारी कंपनी, यूजर्स के साथ उचित व्यवहार किया जाता है. यदि प्रशासन की तरफ से ऐसा नहीं होता तो हम अमेरिकी अदालतों का सहारा लेंगे.

चीन ने दी गलती सुधारने की चेतावनी

इससे पहले, चीन ने अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा मैसेजिंग एप WeChat और वीडियो-शेयरिंग एप TikTok के खिलाफ बैन के आदेश के बाद ट्रंप प्रशासन पर “मनमाने और राजनीतिक हेरफेर” का आरोप लगाया था. चीन (China) ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए अपनी गलती सुधारने को कहा है. चीन ने अमेरिका को चेताया और कहा कि चीनी एप्स को ब्लॉक करने का अमेरिका का कदम मार्केट प्रिंसिपल के खिलाफ है और वो वाशिंगटन से अपनी गलतियों को सुधारने का आग्रह करता है.

कॉर्पोरेट जासूसी करता है टिकटॉक

ट्रंप प्रशासन ने कहा था कि टिकटॉक राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है. राष्ट्रपति ने आदेश में कहा है कि संभवतः चीन, फेडरल एम्पलॉयज और कॉन्ट्रैक्टर्स की लोकेशन को ट्रैक करने, ब्लैकमेल के लिए व्यक्तिगत जानकारी के डोजियर बनाने और कॉर्पोरेट जासूसी करने की अनुमति देता है. साथ ही यह दावा भी किया गया कि टिकटॉक के सेंसर को, ऐसी सामग्री जो चीनी कम्युनिस्ट पार्टी राजनीतिक रूप से संवेदनशील है और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को लाभ पहुंचाने वाले डिसइंफोर्मेशन कैंपेन के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

Related Posts