Coronavirus: UNSC गुरुवार को करेगी COVID-19 पर मीटिंग, क्या चीन करेगा वीटो का इस्तेमाल?

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी पर चर्चा करने के लिए गुरुवार (9 अप्रैल) को वीडियो टेलीकॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करेगी.
UNSC meeting on coronavirus, Coronavirus: UNSC गुरुवार को करेगी COVID-19 पर मीटिंग, क्या चीन करेगा वीटो का इस्तेमाल?

पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामरी से जूझ रही है. AFP न्यूज एजेंसी के मुताबिक अब तक दुनियाभर में 75 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी हैं. वहीं 13 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं.

इस बीच संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) कोरोना वायरस महामारी पर चर्चा करने के लिए गुरुवार (9 अप्रैल) को वीडियो टेलीकॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करेगी. UNSC कोरोना वायरस पर पहली बार बात करेगी.

अप्रैल के महीने के लिए अध्यक्षता डोमिनिकन गणराज्य के पास है. डोमिनिकन गणराज्य ने कहा कि उसने ”UNSC के अधिकार क्षेत्र में आने वाले मामलों पर COVID-19 के प्रभाव के संबंध में वीडियो टेलीकॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करने का फैसला किया है.”

वहीं, पिछले महीने अध्यक्षता चीन के पास थी. दुनियाभर में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों के बावजूद पिछले महीने चीन की अध्यक्षता में सुरक्षा परिषद ने वैश्विक महामारी के बारे में कोई चर्चा नहीं की.

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस भी गुरुवार को होने वाले इस सत्र में भाग लेंगे. यह देखने वाली बात होगी कि बैठक के बाद कोविड-19 संबंधी हालात पर मीडिया के लिए कोई बयान जारी किया जाएगा या नहीं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

डोनाल्ड ट्रंप ने WHO पर उतारा गुस्सा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट के जरिए विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO पर निशाना साधा है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर लिखा कि WHO ने सच में गलती की. अमेरिका संगठन को सबसे ज्यादा फंड करता है लेकिन किसी वजह से वो काफी चीन केंद्रित है. हम इसे अच्छे से देखेंगे. अच्छा हुआ कि मैंने WHO की चीन के लिए अपने बॉर्डर खुले रखने की सलाह नहीं मानी थी. उन्होंने हमें इतना खराब सुझाव क्यों दिया?’

क्या चीन कर सकता है वीटो?

ट्रंप के इस बयान के बाद देखना होगा कि मीटिंग में चीन को लेकर अमेरिका के अलावा परिषद में मौजूद देशों की प्रतिक्रिया क्या होगी? ट्रंप के ट्वीट के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि अमेरिका इस मीटिंग के जरिये चीन को वैश्विक मंच पर घेरने की कोशिश कर सकता है.

हालांकि इस ‘क्‍लोज डोर मीट‍िंग’ में होने वाली चर्चा का कोई हल निकलेगा या नहीं, यह काफी कुछ इस पर निर्भर करता है कि प्रस्‍ताव क्‍या आते हैं और चीन व रूस का रुख इस पर क्‍या होता है. यानी वे ‘वीटो पावर’ का इस्‍तेमाल करते हैं या नहीं. चीन यह कहकर इस पर चर्चा को रोकने की कोशिश कर सकता है कि यह शांति और सुरक्षा का मुद्दा नहीं है, जो सुरक्षा परिषद के अंतर्गत आता है.

ये दे सकते हैं US का साथ

इससे पहले एस्‍टोनिया बीते महीने सुरक्षा परिषद में कोरोना पर चर्चा को रोक चुका है कि यह शांति और सुरक्षा का मुद्दा नहीं है. हालांकि UNSC में इस विषय पर चर्चा के लिए विशेष सत्र बुलाने पर इसके सभी 10 अस्‍थाई सदस्‍यों ने भी सहमति जताई है. सुरक्षा परिषद के तीन स्‍थाई सदस्‍यों अमेरिका, फ्रांस, बिटेन में भी कोरोना वारस ने भयंकर कोहराम मचाया हुआ है.

Related Posts