‘आतंकी पकड़ तो लिए, अब मुकदमा भी चलाओ’, पाकिस्‍तान की नौटंकी पर बिफरा अमेरिका

पूरी दुनिया की तरफ से पाकिस्‍तान पर आतंकियों के खिलाफ एक्‍शन लेने का दबाव बन रहा है. FATF भी पाकिस्‍तान को ब्‍लैक लिस्‍ट कर सकता है.

पाकिस्तान ने हाल ही में लश्‍कर-ए-तैयबा (LeT) के कुछ ऑपरेटिव्‍स को गिरफ्तार किया. अमेरिका चाहता है कि इन आतंकियों को उनके अंजाम तक पहुंचाया जाए. यूनाइटेड स्‍टेट्स दक्षिण व मध्य एशिया मामलों की सहायक मंत्री एलिस वेल्‍स ने ट्वीट में पाकिस्‍तान को यह नसीहत दी.

वेल्‍स ने ट्वीट में कहा कि पाकिस्तान को अपनी जमीन पर आतंकवाद को रोकना ही होगा. उन्होंने कहा कि अमेरिका हाल में LeT के चार नेताओं की पाकिस्तान द्वारा की गई गिरफ्तारी की सराहना करता है. इन चारों को और LeT सरगना हाफिज सईद को घातक हमलों के लिए कानून के कठघरे में लाया जाए.

वेल्स ने ट्वीट में कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान ने टेरर ग्रुप्‍स के खिलाफ एक्‍शन की कसम खाई है. यह पाकिस्तान के भविष्य के हित में है कि वह अपनी धरती पर आतंकवादी समूहों की गतिविधियों पर रोक लगाए. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप भी कह चुके हैं कि पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ और अधिक उपाय करने की जरूरत है.

पूरी दुनिया की तरफ से पाकिस्‍तान पर आतंकियों के खिलाफ एक्‍शन लेने का दबाव बन रहा है. फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) भी पाकिस्‍तान को ब्‍लैक लिस्‍ट कर सकता है. अगर ऐसा हुआ तो पाकिस्‍तान को मिलने वाली आर्थिक मदद बंद हो सकती है.

FATF की ब्‍लैक-लिस्टिंग से बचने के लिए ही पाकिस्‍तान ने इन आतंकियों को पकड़ा. जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद पहले से ही जेल में है.

ये भी पढ़ें

विदेश मंत्री के बाद अब पाकिस्‍तानी पीएम इमरान खान ने भी माना कश्‍मीर भारत का हिस्‍सा

पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद की क्यों होगी छुट्टी?