ग्रीन कार्ड चाहिए तो भारतीयों को अब बतानी होगी सोशल मीडिया ID, अमेरिका ने बदले नियम

अमेरिका में सेटल होने वाले भारतीयों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है. अब उन्‍हें पिछले पांच सालों के दौरान इस्‍तेमाल किए गए सोशल मीडिया प्‍लैटफॉर्म्‍स की जानकारी भरनी होगी.

अमेरिकी नागरिकता के लिए अब लोगों को सोशल मीडिया अकाउंट्स की जानकारी देनी होगी. US डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्‍योरिटी (DHS) ने अब विभिन्‍न फॉर्म्‍स में यह जानकारी मांगी है. ग्रीन कार्ड के लिए भी सोशल मीडिया प्रोफाइल्‍स की इंफॉर्मेशन देना जरूरी कर दिया गया है.

भारत से अमेरिका जाने वालों से D-160 और D-260 नाम के दो ऑनलाइन फॉर्म भराए जाते हैं. अब इनमें ड्रॉप-डाउन मेन्‍यू एड कर दिया गया है. अप्लिकेंट्स को पिछले पांच सालों के दौरान इस्‍तेमाल किए गए सोशल मीडिया प्‍लैटफॉर्म्‍स की जानकारी भरनी होगी.

अमेरिकी वीजा और वहां की नागरिकता हासिल करने वाले भारतीयों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है. 30 सितंबर, 2017 में समाप्‍त हुए वित्‍त वर्ष में 60,000 से ज्‍यादा भारतीयों ने ग्रीन कार्ड हासिल किया. इसी दौरान करीब 50 हजार लोगों ने अमेरिकी नागरिकता ले ली.

अमेरिका के इमिग्रेशन अधिकारियों को अब इस बात की इजाजत मिल गई है कि वह ग्रीन कार्ड, नागरिकता, वर्क वीजा इत्‍यादि के लिए अप्‍लाई करने वालों की सोशल मीडिया प्रोफाइल्‍स चेक करने के लिए फर्जी अकाउंट बना सकें.

ये भी पढ़ें

उइगर मुसलमानों की जासूसी के लिए इस देश ने हैक कर डाले स्‍मार्टफोन्‍स

VIDEO: तेजी से धरती के नजदीक आ रहा यह उल्कापिंड, टकराया तो मच जाएगी तबाही