‘ईरान अगर लड़ना चाहता है तो उसका अंत हो जाएगा’, डोनाल्‍ड ट्रंप की धमकी, खाड़ी में तनाव बढ़ा

संयुक्त राष्ट्र ने सभी पक्षों से ज्यादा से ज्यादा संयम बरतने का आह्वान किया है, मगर ट्रंप ने आक्रामक रुख अपना ल‍िया है.

नई‍ दिल्‍ली: अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ईरान को बेहद कड़े शब्‍दों में चेतावनी दी है. ट्रंप ने कहा है कि अगर ईरान ने वाशिंगटन के हितों पर हमला किया तो वह तबाह कर दिया जाएगा. एक ट्वीट में ट्रंप ने कहा, “अगर ईरान लड़ना चाहता है तो वह ईरान का आधिकारिक अंत होगा अमेरिका को फिर कभी धमकी मत देना.” ट्रंप ने अपनी धमकी ईरान की रिवोल्यूशनरी गार्डस के कमांडर हुसैन सलामी के रविवार को दिए उस बयान के कुछ घंटों बाद ही जारी की है जिसमें उन्होंने कहा था कि ईरान को युद्ध से डर नहीं लगता लेकिन अमेरिका को लगता है.

जब से अमेरिका ने युद्धपोत और B-52 बमवर्षकों को संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) के फुजैराह में तैनात करने का आदेश दिया है, ईरान और अमेरिका के बीच तल्‍खी बढ़ गई है. इसके अलावा अमेरिका ने ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी कॉर्प्स को एक आतंकी समूह के रूप में नामित किया है. ईरानी तेल निर्यात पर वह पहले ही पूरी तरह से प्रतिबंध लगा चुका है.

ईरान के भी तेवर तल्‍ख

गल्‍फ को-ऑपरेशन काउंसिल (GCC) ने अरबियन खाड़ी में और सैनिक तैनात करने की अमेरिका की दरख्‍़वास्‍त मान ली है. अमेरिका का कहना है कि इससे उसे ईरान की तरफ से उठने वाले किसी भी खतरे से निपटने में मदद मिलेगी. ईरान की सरकारी एजंसी IRNA ने विदेश मंत्री मोहम्‍मद जवाद जरीफ के हवाले से कहा कि उन्‍हें नहीं लगता कि क्षेत्र में युद्ध होगी क्‍योंकि तेहरान संघर्ष नहीं चाहता और कोई देश ‘ईरान का सामना करने की गलतफहमी’ में नहीं है.

ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खमेनेई ने भी विवादित मुद्दों पर अमेरिकी सरकार के साथ किसी तरह की बातचीत करने से इनकार किया है. खाड़ी क्षेत्र में मौजूदा तनाव के बीच संयुक्त राष्ट्र ने सभी पक्षों से ज्यादा से ज्यादा संयम बरतने का आह्वान किया है. संयुक्त राष्ट्र एंटोनियो गुटेरेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा कि गुटेरेस हालात पर करीबी नजर बनाए हुए हैं.

ये भी पढ़ें

चीनी टेलिकॉम कंपनी ‘हुवावे’ पर सख्त हुए ट्रंप, इस वजह से नहीं खरीद सकेगी अमेरिकी टेक्नोलॉजी

ये ईरानियन मॉडल है ऐश्वर्या राय की हमशक्ल, देखें तस्वीरें…

जिस बुर्के पर हिंदुस्तान में जारी है बहस, उसे निपटा चुके हैं दुनिया के ज़्यादातर देश