बांग्लादेश से रिश्तों को मज़बूत करने की कोशिश कर रहा अमेरिका, भारत से मांगी पड़ोसी के बारे में सलाह

कोविड-19 के दौर में चीन बांग्लादेश से नज़दीकी बढ़ाने की कोशिश कर रहा है. ऐसे में बांग्लादेश में बढ़ रही चीन की नज़दीकी के बीच बाइगन बांग्लादेश की राजधानी ढाका जा रहे हैं.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 12:37 pm, Wed, 14 October 20
ट्रंप और शेख हसीना (File Pic)

अमेरिका के उप विदेश मंत्री स्टीफन बाइगन भारत की यात्रा के बाद आज से बांग्लादेश के दो दिवसीय दौरे पर होंगे. बाइगन सोमवार को भारत की यात्रा पर आए थे. इस दौरान उन्होंने भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की थी. भारत के साथ ही अमेरिका की अब कोशिश बांग्लादेश के साथ रिश्ते फिर से मज़बूत करने की है.

प्रशांत क्षेत्र में इसके ज़रिए अमेरिका की मंशा चीन की हर चाल को नाकाम करने की है. एस जयशंकर (S Jaishankar) से भी अमेरिकी उप-विदेश मंत्री ने दोनो देशों के संबंधों को चर्चा की. कहा जा रहा है कि उन्होंने भारत के पड़ोसी के बारे में भारत से राय जानने की कोशिश की. बायगन ने भारत के विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला से बातचीत करके  QUAD सिक्योरिटी डायलॉग को मजबूत करने के तरीकों पर ध्यान देने समेत पड़ोसी मुल्कों का रुख जानना चाहा.

ये भी पढ़ें-ताइवान के साथ तीन आर्म्स डील पर कदम आगे बढ़ा रहा अमेरिका.. टेंशन में चीन

चीन बढ़ा रहा है बांग्लादेश से नज़दीकी

कोविड-19 के दौर में चीन बांग्लादेश से नज़दीकी बढ़ाने की कोशिश कर रहा है. ऐसे में बांग्लादेश में बढ़ रही चीन की नज़दीकी के बीच बाइगन बांग्लादेश की राजधानी ढाका जा रहे हैं. ढाका में अमेरिकी दूतावास ने इस संबंध में एक बयान जारी कर उप-विदेश मंत्री के बांग्लादेश के दौरे के बारे में जानकारी दी. उम्मीद है कि आज वो बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से मीटिंग भी करेंगे.

भारत निभा रहा अहम भूमिका

दरअसल भारत दोनों देशों के रिश्तों को मज़बूत बनाने की कोशिश कर रहा है. भारत ने अमेरिका को बांग्लादेश के साथ रिश्तों को मज़बूत करने के लिए प्रोत्साहित भी किया. इससे पहले पूर्व विदेश मंत्री जॉन कैरी और हिलेरी क्लिंटन ने भी बांग्लादेश के दौरे की इच्छा ज़ाहिर की थी. हालांकि किसी वज़ह से वो दौरा संभव नहीं हो पाया.

ये भी पढ़ें-चीन का कर्ज जाल: पाक के हाथ से निकले सिंध के दो द्वीप, इमरान सरकार के खिलाफ बगावत

अमेरिका को भारत की तरफ से ये बताया गया है कि शेख हसीना के नेतृत्व में बांग्लादेश तेज़ी से आगे बढ़ रहा है. चीन, बांग्लादेश में निवेश बढ़ा रहा है. बांग्लादेश अपनी रक्षा ज़रूरतों का 80 फीसदी हिस्सा उससे खरीद रहा है. ऐसे में अमेरिका की यात्रा और अहम हो जाती है. भारत ने भी बांग्लादेश को भी इस क्षेत्र में सहयोग के लिए मदद की पेशकश की थी.