Video: जहर उगलते-उगलते सच बोल गए पाक के विदेश मंत्री, जम्‍मू-कश्‍मीर को माना भारत का राज्‍य

यूएनएचआरसी की बैठक में भाषण देने के बाद जब कुरैशी मीडिया से बात कर रहे थे, तब उन्‍होंने मान लिया कि जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्‍सा है.

जिनेवा: यूनाइटेड नेशंस ह्यूमन राइट्स काउंसिल (UNHRC) की बैठक में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी कश्‍मीर को लेकर एक के बाद एक झूठ बोला, लेकिन सच आखिर कब तक छुपाते. यूएनएचआरसी की बैठक में भाषण देने के बाद जब मीडिया से बात कर रहे थे, तब उन्‍होंने मान लिया कि जम्मू-कश्मीर भारत का हिस्‍सा है.

पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, ‘भारत दुनिया को यह बताने की कोशिश कर रहा है कि जिंदगी की पटरी पर आ गई है (वह जम्‍मू कश्‍मीर का जिक्र कर रहे थे). अगर सबकुछ नॉर्मल हो गया है तो वे आपको (मतलब इंटरनेशनल मीडिया) वहां जाने की अनुमति क्‍यों नहीं दे रहे हैं? क्‍यों वे इंटरनेशल मीडिया, इंटरनेशनल ऑर्गनाइजेशन, एनजीओ को क्‍यों नहीं जाने दे रहे हैं, ताकि वे इंडियन स्‍टेट जम्‍मू-कश्‍मीर में जाकर स्थिति को देख सकें कि सच क्‍या है. दरअसल, भारत झूठ बोल रहा है, एक बार कर्फ्यू हटेगा तो सच सामने आ जाएगा और दुनिया में कड़ी प्रतिक्रिया होगी.’

शाह महमूद कुरैशी का बयान इसलिए अहम है, क्‍योंकि पाकिस्‍तान कश्‍मीर को विवादित मानता है, जबकि भारत जम्‍मू-कश्‍मीर और पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर को अपना हिस्‍सा मानता है.

शाह महमूद कुरैशी पाकिस्‍तान के पहले नेता हैं, जिन्‍होंने जम्‍मू-कश्‍मीर को भारत का राज्‍य कहकर से संबोधित किया. कुरैशी का यह बयान भारत समेत इंटरनेशल मीडिया में सुर्खियां बटोर रहा है. वहीं, पाकिस्‍तान अब कुरैशी के बयान को ‘स्लिप ऑफ टंग’ कहकर पीछा छुड़ाने की कोशिश कर रहा है.

इससे पहले शाह महमूद कुरैशी ने जिनेवा में हुई संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) की बैठक में कश्‍मीर को लेकर झूठ बोलने के सारे रिकॉर्ड तोड़ डाले.

मंगलवार को जिनेवा में उन्‍होंने आरोप लगाया कि भारत ने कश्मीर को एक जेल में बदल दिया है.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि बीते छह हफ्तों से हुर्रियत कांफ्रेंस के नेता नजरबंद हैं. उन्होंने कहा कि ‘अधिकृत कश्मीर’ को दुनिया की सबसे बड़ी जेल बना दिया गया है.

उन्होंने प्रतिनिधियों से कहा, “आप सभी को हमने बीबीसी की रिपोर्ट की कॉपी दी है। आप उसे पढ़ लें जिसमें कश्मीरी खुद अपने मुंह से अपने ऊपर होने वाले जुल्म का बयान कर रहे हैं।”

कुरैशी ने कहा कि भारत अपने आप को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बताता है जबकि वह कश्मीरी बहुसंख्यकों को अल्पसंख्यक बनाना चाहता है. उन्होंने कहा कि ब्रिटिश मीडिया ने कश्मीर में हो रहे जुल्म को बेनकाब किया है. वहां दवाओं की भारी कमी है. उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि वह कश्मीर मसले को हल कराने के लिए दखल दे.