सिर्फ 8 महीने में बदल गया पाकिस्‍तानी सेना का मन, जानें कौन है ISI का नया बॉस

पाकिस्‍तानी सेना ने 8 महीने के भीतर ही ISI चीफ को बदल दिया है.
फैज़ हमीद, सिर्फ 8 महीने में बदल गया पाकिस्‍तानी सेना का मन, जानें कौन है ISI का नया बॉस

नई दिल्‍ली: पाकिस्‍तानी सेना ने लेफ्टिनेंट जनरल फैज़ हमीद को इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) एजेंसी का महानिदेशक नियुक्‍त किया है. ले. जनरल हमीद बलोच रेजिमेंट से आते हैं. वह ISI में काउंटर इंटेलिजेंस विंग के इंचार्ज रह चुके हैं. 12 अप्रैल को पाकिस्‍तानी सेना ने तब मेजर-जनरल रहे हमीद को प्रमोट कर ले. जनरल बनाया गया था.

वह ले. जनरल आसिम मुनीर की जगह लेंगे. मुनीर को गुजरांवाला कॉर्प्‍स का कमांडर बनाया गया है. मुनीर को 8 महीने पहले ही ISI का नेतृत्‍व सौंपा गया था. सामान्‍य तौर पर ISI प्रमुख की नियुक्ति तीन साल के लिए होती है. सेना ने मुनीर को पद से हटाने के पीछे कोई वजह नहीं बताई है.

इस्‍लामाबाद में रुकवाया था प्रदर्शन

ले. जनरल फैज़ हमीद ने 2017 में सुर्खियां बटोरी थीं, जब उन्‍होंने तत्‍कालीन पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सरकार और धार्मिक समूह के बीच समझौता कराया था. अहमदिया मुसलमानों से जुड़े एक कानून को लेकर तब पाकिस्‍तान में खूब प्रदर्शन हो रहे थे.

फैज़ हमीद वहीं अधिकारी हैं जिनपर बाद में नवाज शरीफ ने चुनाव में धांधली का आरोप लगाया. शरीफ का कहना था कि जनरल हमीद की वजह से उनकी पार्टी के कई नेता इमरान खान की पाकिस्‍तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के साथ चले गए. नवाज ने पाकिस्‍तानी सेना और ISI पर चुनावी इंजीनियरिंग की तोहमत लगाई थी.

ISI लंबे समय से इस्‍लामिक आतंकवादियों को शह देती रही है. हाल ही में मीडिया की आवाज दबाने, पिछले चुनावों में दखल देने, मानवाधिकार समूहों के खिलाफ अभियान चलाने के आरोप ISI पर लगे हैं.

अधिकतर एक्टिविस्‍ट मानते हैं कि इमरान खान के सत्‍ता संभालने के बाद सेना का तानाशाही रवैया बढ़ता जा रहा है. पाकिस्‍तानी सेना ने इस बात से साफ इनकार किया है कि वह आतंकियों को शरण देती है, राजनीति में दखल देती है या विरोध को दबाती है.

ये भी पढ़ें

SCO सम्‍मेलन में इमरान खान करते रहे ‘उठक-बैठक’, उड़ाईं प्रोटोकॉल की धज्जियां

हॉन्ग कॉन्ग और चीन के रिश्ते की पूरी कहानी जिसमें एक बिल की वजह से आई दरार

Related Posts