WHO ने मलेरिया की दवा Hydroxychloroquine का Coronavirus के लिए ट्रायल पर लगाई रोक

WHO ने कहा कि इसने एहतियात के तौर पर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का कोरोनावायरस (Coronavirus) के इलाज के लिए क्लनिकल ट्रायल अस्थायी रूप से बंद कर दिया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मलेरिया की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) का कोरोनावायरस (Coronavirus) के इलाज के लिए ट्रायल करने पर रोक लगा दी है. रिपोर्ट के मुताबिक, सुरक्षा चिंताओं को ध्यान में रखते हुए WHO ने यह फैसला लिया है.

एहतियात के तौर पर उठाया कदम

WHO ने सोमवार को कहा कि इसने एहतियात के तौर पर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का कोरोनावायरस के इलाज के लिए क्लनिकल ट्रायल अस्थायी रूप से बंद कर दिया है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

पिछले हफ्ते लैंसेंट में छपी एक अध्ययन की रिपोर्ट के बाद WHO ने यह फैसला किया है. रिपोर्ट में कहा गया था कि इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना के मरीजों की मौत की संभावना बढ़ जाती है.

WHO के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पिछले दिनों मलेरिया और अन्य बीमारियों के उपचार में इस्तेमाल किए जाने वाली दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन या क्लोरोक्विन को कोविड-19 संक्रमण के इलाज में प्रयोग में लाने को लेकर चेताया था. उन्होंने कहा था कि इन दवाओं को क्लिनिकल ट्रायल में उपयोग के लिए रिजर्व किए जाने की आवश्यकता है.

ICMR भी कर रहा विचार

वहीं, ICMR भी कोरोनावायरस संक्रमित रोगियों के उपचार में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के प्रयोग की अपनी सिफारिशों की समीक्षा करने पर विचार कर रहा है. ऐसा दवा की प्रभावी क्षमता को लेकर उठ रहे संदेहों के बाद किया जा रहा है.

बता दें कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का भारत में उत्पादन बड़ी मात्रा में होता है. यह दवा मलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी में काम आती है. मलेरिया के साथ इन दवाओं का प्रयोग आर्थराइटिस में भी किया जाता है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts