क्या टल जाएगा शी जिनपिंग का भारत दौरा? चीन ने अब तक नहीं की अधिकारिक पुष्टि

पाकिस्तान में चीनी राजदूत याओ जिंग ने इस्लामाबाद में कश्मीर से विशेष राज्य का दर्ज़ा हटाए जाने को मौलिक अधिकारों का हनन बताते हुए पाकिस्तान को समर्थन देने की बात कही थी.
i Jinpings visit date still not official, क्या टल जाएगा शी जिनपिंग का भारत दौरा? चीन ने अब तक नहीं की अधिकारिक पुष्टि

भारत, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के स्वागत के लिए तैयार है लेकिन अभी तक उनकी तरफ से यात्रा की अधिकारिक पुष्टि नहीं की है. मौजूदा जानकारी के मुताबिक 11-12 अक्टूबर को यात्रा प्रस्तावित है. अंग्रेज़ी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक विदेश मंत्रालय ने इसके लिए रजिस्ट्रेशन भी शुरू कर दिया है लेकिन उसमें तारीख़ स्पष्ट नहीं किया गया है.

बता दें कि भारत की तरफ से चेन्नई के मामल्लपुरम में अनिर्धारित यात्रा की तैयारी जारी है. वहीं भारत में बीजींग के राजदूत ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर लिखा है कि दोनों देशों को वुहान में हुए भारत-चीन अनौपचारिक शिखर सम्मेलन को सकारात्मक नतीजे पर ले जाना चाहिए.

इस अनिर्धारित मुलाकात से पहले चीन की तरफ से यह पहली सकारात्मक पहल देखने को मिली है.

भारत में चीन के नवनियुक्त राजदूत सन वीदोंग ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘हमारे नेताओं के रणनीतिक मार्गदर्शन में भारत-चीन के बीच हाल के दिनों में धीमी प्रगति देखने को मिल रही है. हमें उम्मीद है कि आने वाले दिनों में वुहान अनौपचारिक शिखर सम्मेलन को आगे बढ़ाते हुए और भी कई नई पहल देखने को मिलेगी. इसके साथ ही दोनों देशों के बीच के संबंध भी और ज़्यादा प्रगाढ़ होंगे.’

हाल के दिनों में कश्मीर मुद्दे को लेकर चीन पाकिस्तान का समर्थन करता रहा है. शुक्रवार को ही पाकिस्तान में चीनी राजदूत याओ जिंग ने इस्लामाबाद में कश्मीर से विशेष राज्य का दर्ज़ा हटाए जाने को मौलिक अधिकारों का हनन बताते हुए पाकिस्तान को समर्थन देने की बात कही थी.

उन्होंने कहा, ‘हमलोग भी कश्मीरियों को न्याय दिलाने की दिशा में काम कर रहे हैं. कश्मीर मुद्दे पर उचित समाधान निकालने की ज़रूरत है और चीन हर तरह से पाकिस्तान के साथ है.’

हालांकि भारत ने चीनी राजदूत के इस बयान पर राजनयिक चैनलों के माध्यम से विरोध दर्ज़ किया है.

बताते चलें मामल्लपुरम पीएम मोदी और राष्ट्रपति जिनपिंग के स्वागत के लिए तैयार है. सुरक्षा के लिहाज से तटों पर पानी से जुड़ी स्पोर्ट्स गतिविधियों को रोक दी गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीएम मोदी और राष्ट्रपति जिनपिंग मामल्लपुरम में इन चार जगहों का साथ-साथ भ्रमण और दर्शन करेंगे. ये जगहें हैं- मामल्लपुरम तट, शोर मंदिर, पांच रथ और कृष्ण बटरबॉल (बटर स्टोन).

11-13 अक्टूबर को तमिलनाडु के ऐतिहासिक शहर मामल्लपुरम में पीएम मोदी और राष्ट्रपति जिनपिंग साथ होंगे. इस दौरान ये नेता दोनों देशों के बीच सदियों पुराने संबंध को याद करते हुए कुछ ऐतिहासिक स्थलों को साथ-साथ देखेंगे, घूमेंगे और सेल्फी भी लेंगे.

Related Posts