नेपाल हिमस्खलन: 200 से ज्यादा को बचाया, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

शुक्रवार को हुई भारी बर्फबारी से हिमालय पर्वत श्रृंखला की सबसे उंची चोटियों में से एक अन्नपूर्णा के आधार शिविर के पास ये हादसा हुआ. नेपाल के पर्यटन मंत्रालय ने ये जानकारी दी कि हादसे की सूचना मिलते ही ट्रैकर्स को रवाना किया गया.
Nepal avalanche South Korea china trekkers, नेपाल हिमस्खलन: 200 से ज्यादा को बचाया, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

पड़ोसी मुल्क नेपाल में 17 जनवरी को अन्नपूर्णा सर्किट मार्ग के करीब हिमस्खलन हुआ. इसकी चपेट में आने से 4 दक्षिण कोरियाई पर्वतारोही और 3 नेपाली गाइड लापता हो गए. शनिवार तक लगभग 200 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है.

शुक्रवार को हुई भारी बर्फबारी से हिमालय पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटियों में से एक अन्नपूर्णा के आधार शिविर के पास ये हादसा हुआ. नेपाल के पर्यटन मंत्रालय ने ये जानकारी दी कि हादसे की सूचना मिलते ही ट्रैकर्स को रवाना किया गया. इलाके के सर्वे के लिए कई आर्मी हेलिकॉप्टर लगाए गए हैं. लगातार हो रही बारिश से राहत बचाव कार्य को रोकना पड़ रहा है.

दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्रालय के मुताबिक हिमस्खलन 10,500 फीट की ऊंचाई पर आया था. दक्षिण कोरिया के शिक्षा विभाग ने बताया कि लापता चारों नागरिक नेपाल में वॉलेंटियर शिक्षक थे. दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्रालय ने कहा कि लापता हुए लोगों के परिजनों के सूचना दे दी गई है. दक्षिम कोरिया जल्द ही एक इमरजेंसी टीम को नेपाल भेजेगा.

पुलिस उप अधीक्षक राज कुमार केसी ने बताया कि सर्च ऑपरेशन और राहत बचाव अभियान के लिए पुलिस की एक टीम देउराली के लिए रवाना हो चुकी है. उन्होंने बताया कि ज्यादातर ट्रैकर्स दक्षिण कोरिया और चीन से थे. हालांकि इस बात की जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है कि कुल कितने लोग लापता हैं.

ये हादसा भारी हिमपात होने के बाद हिमालय की सबसे ऊंची चोटियों में से एक अन्नपूर्णा के बेस कैंप के करीब 3,230 मीटर की ऊंचाई पर हुआ. हर साल एशिया से हजारों ट्रेकर्स हिमालय की चोटियों के शानदार नज़ारे का लुत्फ उठाने जाते हैं. साल 2014 में इसी तरह की घटना हुई थी. नेपाल में लोकप्रिय सर्किट पर बर्फ के तूफान के कारण लगभग 40 लोग मारे गए थे.

ये भी पढ़ें: पकड़ा गया ISIS आतंकी शिफा अल-निमा, इतना भारी कि ट्रक में डालकर ले जाना पड़ा जेल

Related Posts