इंडोनेशिया ने विवादित द्वीप पर तैनात किए युद्धपोत-लड़ाकू विमान, भड़का चीन

राष्ट्रपति विडोडो ने नतूना पहुंचकर कहा, "इस द्वीप पर सिर्फ इंडोनेशिया का अधिकार है. इस पर किसी तरह की बहस की कोई गुंजाइश नहीं है."
US Iran dispute, इंडोनेशिया ने विवादित द्वीप पर तैनात किए युद्धपोत-लड़ाकू विमान, भड़का चीन

अमेरिका-ईरान विवाद के बाद चीन और इंडोनेशिया में भी तनाव बढ़ता नजर आ रहा है. इंडोनेशिया ने दक्षिण चीन सागर के एक द्वीप पर कई युद्धपोत और लड़ाकू विमान तैनात कर दिए हैं. इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो के नतूना द्वीपसमूह पहुंचने से पहले क्षेत्र की सुरक्षा के मद्देनजर ये तैनाती की गई है.

विडोडो ने नतूना पहुंचकर कहा, “इस द्वीप पर सिर्फ इंडोनेशिया का अधिकार है. इस पर किसी तरह की बहस की कोई गुंजाइश नहीं है.”

दक्षिण चीन सागर के नतूना द्वीपसमूह को लेकर चीन और इंडोनेशिया में लंबे समय से विवाद रहा है. हाल ही में इस विवादित क्षेत्र से चीन के कई जहाज गुजरे थे. इंडोनेशिया में इस पर अपनी नाराजगी जताई थी और चीन के राजदूत को तलब कर अपनी शिकायत दर्ज कराई थी.

चीन समूचे दक्षिण चीन सागर क्षेत्र पर अपना एकाधिकार जताता रहा है. दक्षिण चीन सागर क्षेत्र को लेकर चीन का इंडोनेशिया के अलावा वियतनाम, फिलीपींस और मलेशिया के साथ भी विवाद चल रहा है. यह क्षेत्र अंतरराष्ट्रीय व्यापार में महत्वपूर्ण मार्ग की भूमिका निभाता है. इसके अलावा यहां पर मछलियों का बहुत बड़ा भंडार भी है.

दूसरी तरफ, चीन-पाकिस्तान वार्षिक सैन्य सहयोग योजना के तहत ‘मरीन गार्डियन 2020’ नामक नौ दिवसीय चीन-पाकिस्तान समुद्री सैन्य अभ्यास सोमवार को पाकिस्तान के बंदरगाह शहर कराची में शुरू हुआ. इस अभ्यास का उद्देश्य दोनों पक्षों के बीच सुरक्षा सहयोग को मजबूत करना है.

साथ ही चीन-पाकिस्तान के बीच की मजबूत रणनीतिक साझेदारी के विकास को बढ़ावा देना, सुरक्षित समुद्री वातावरण का सह-निर्माण करना और समुद्री आतंकवाद एवं अपराध से संयुक्त रूप से लड़ने की क्षमता को बढ़ाना है.

ये भी पढ़ें-

‘ईरान झुक रहा है, शांति को तैयार’, डोनाल्‍ड ट्रंप के बयान के क्‍या हैं मायने?

22 रॉकेट्स झेलने के बावजूद सही सलामत है अयान अल-असद एयरबेस, पढ़ें अमेरिका के लिए क्‍यों है अहम

Related Posts