why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?
why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?

यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?

पहले ही कहा जाता था पुतिन 2024 के बाद भी रूस की सत्ता में बने रहने का कोई ना कोई पैंतरा निकाल लेंगे. आइए, जानते हैं कि कभी सोवियत संघ के सिक्रेट एजेंट रहे पुतिन कैसे वहां के सबसे ताकतवर इंसान ही नहीं बल्कि रूस के पर्याय बन गए.
why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?

रूस के प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव के साथ उनकी पूरी सरकार ने बुधवार देर रात अचानक सामूहिक इस्तीफा दे दिया. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के संविधान संशोधन के प्रस्ताव पर एतराज को इस्तीफे की वजह बताया जा रहा है. मेदवेदेव और उनके मंत्रिमंडल ने पुतिन के एनुअल स्टेट ऑफ द नेशन एड्रेस के बाद इस्तीफा दे दिया. पुतिन ने इस्तीफे को फौरन मंजूर करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री और सरकार दोनों ही अपने मकसद पूरा करने में नाकाम रही है.

ऐसा माना जा रहा है कि पुतिन ने खुद को सत्ता में बनाए रखने के लिए यह प्रस्ताव पेश किया है. साल 2024 में उनका राष्ट्रपति पद का कार्यकाल खत्म हो रहा है. इसलिए पुतिन ने अपने संबोधन में संविधान में बदलावों का प्रस्ताव रखा था. जिसमें संसद के निचले सदन को प्रधानमंत्री और मंत्रिमंडल को नियुक्त करने का अधिकार देने जैसे कई बड़े बदलावों की बात शामिल है.

रूस में इस बड़े राजनीतिक घटनाक्रम के बाद 67 साल के व्लादिमीर पुतिन का रहस्यमय किरदार एक बार फिर दुनिया भर में चर्चा का विषय बन गया है. पहले ही कहा जाता था पुतिन 2024 के बाद भी रूस की सत्ता में बने रहने का कोई ना कोई पैंतरा निकाल लेंगे. आइए, जानते हैं कि कभी सोवियत संघ के सिक्रेट एजेंट रहे पुतिन कैसे वहां के सबसे ताकतवर इंसान ही नहीं बल्कि रूस के पर्याय बन गए.

रूस की खुफिया सेवा केजीबी में क्या करते थे पुतिन

रूस के राष्ट्रपति और दुनिया के लिए तिलस्मी राजनेता व्लादिमीर पुतिन की सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली जीवनी माशा गेसन ने लिखी है. उनके मुताबिक सात अक्टूबर 1952 को लेनिनग्राद में जन्मे पुतिन ने यहीं से वकालत की पढ़ाई पूरी करने के बाद 23 साल की उम्र में पुतिन ने सोवियत संघ की खुफिया सेवा केजीबी के साथ काम करना शुरू किया. केजीबी ने उन्हें पूर्वी जर्मनी के ड्रेसडन शहर में भेजा जहां वे ट्रांसलेटर के रूप में काम करने लगे. उनका काम महज प्रेस क्लिपिंग जमा करना था.

why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?

राजनीति की शुरुआत में ही लगने लगे आरोप

पूर्वी और पश्चिमी जर्मनी के एकीकरण यानी बर्लिन की दीवार गिरने के बाद पुतिन अपने शहर सेंट पीटर्सबर्ग लौट गए. यहां राजनीति में आने के बाद पुतिन कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा. 1991 में सेंट पीटर्सबर्ग के नगर पार्षदों ने पाया कि पुतिन ने विदेशी मदद के बदले स्टील बेचे जाने की इजाजत दी. स्टील तो बिका लेकिन उसके बदले में मदद के तौर पर जो सामान मिलना था वह नहीं मिला. इस मामले में गठित जांच समिति ने पुतिन को दोषी भी पाया गया, लेकिन मेयर से अपने संबंध और तगडी सिफारिश की वजह से वह पद पर बने रहे.

राजनीति में ऐसे होती गई तेज तरक्की

– रूस की राजनीति में पुतिन अपनी जगह बनाते चले गए. साल 1997 में राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन ने उन्हें अपना डिप्टी चीफ ऑफ स्टाफ घोषित किया.
– इसके एक साल बाद 1998 में वे रूस की खुफिया एजेंसी एफएसबी के अध्यक्ष बने.
– साल 1999 में येल्तसिन ने उन्हें रूस के प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्त किया.
– येल्तसिन के समर्थक और प्रतिस्पर्धी दोनों इस फैसले के खिलाफ थे. फिर भी कोई पुतिन को प्रधानमंत्री बनने से रोक नहीं सका.
– येल्तसिन ने अचानक राष्ट्रपति के पद से इस्तीफा दे दिया, तो पुतिन कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाए गए.
– राष्ट्रपति बनने के बाद पुतिन ने सबसे पहला काम यह किया कि येल्तसिन पर लगे भ्रष्टाचार के सभी आरोपों से उन्हें मुक्त कर दिया.
– साल 2000 में पुतिन 53 प्रतिशत वोटों के साथ देश के राष्ट्रपति चुने गए. उनकी जीत में उनकी ‘इमेज’ ने एक बड़ी भूमिका निभाई.
– रूस भ्रष्टाचार से परेशान था. देशवासियों को पुतिन में एक उम्मीद की किरण दिखाई दी. पुतिन इस उम्मीद पर खरे उतरे.
– पुतिन ने देश को आर्थिक संकट से बाहर निकाला. अच्छी अर्थव्यवस्था ने पुतिन की लोकप्रियता को काफी बढ़ा दिया.
– साल 2004 में लोगों ने एक बार फिर पुतिन को अपना नेता चुना.

माशा गेसन का कहना है कि वे माफिया के स्टायल में सरकार चला रहे हैं. पश्चिम में उन्हें ‘बॉन्ड का विलन’ भी कहा जाता है. लेखिका का कहना है कि रूस में उन्हें इस छवि का फायदा मिला है.

why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?

संविधान संशोधन का फायदा पहले भी उठा चुके हैं पुतिन

रूस में भी अमेरिका की तरह ही राष्ट्रपति तीसरी पारी नहीं खेल सकता. दिमित्री मेदवेदेव 2008 में देश के राष्ट्रपति बने तो उन्होंने पुतिन को अपना प्रधानमंत्री चुना. इस दौरान कहा जाता था कि मेदवेदेव महज कागजों पर राष्ट्रपति थे. असल में देश की कमान पुतिन के हाथों में थी. उस दौर में ही बड़ा बदलाव हुआ कि अगले चुनाव से राष्ट्रपति का कार्यकाल चार की जगह छह वर्षों का होगा.

साल 2012 में छह वर्षों के लिए पुतिन फिर राष्ट्रपति पद पर लौटे. उनकी जीत तय मानी जा रही थी. उन्होंने मेदवेदेव को अपना प्रधानमंत्री नियुक्त किया. इस पर उनकी कड़ी आलोचना भी हुई. देश की अर्थव्यवस्था बिगड़ी, भ्रष्टाचार और मानवाधिकार उल्लंघन के आरोप लगे. बावजूद इसके पुतिन रिकॉर्ड 76 फीसदी वोटों के साथ सत्ता में लौटे. उनके इस कार्यकाल को दुनिया में राष्ट्रवाद की लहर के तौर पर देखा गया.

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में दखल का बड़ा आरोप

पुतिन की बढ़ती ताकत का आलम यह है कि 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान पुतिन के पुराने साथी येवगेनी प्रिगोजहिन पर दखल देने का आरोप लगा. कहा जा रहा था कि पुतिन के कहने पर येवगेनी ने अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव को ट्रंप के पक्ष में प्रभावित करने की कोशिश की. चुनावों में धोखाधड़ी का आरोप सोशल मीडिया पर भी चर्चित हुआ. इसके बाद अमेरीका ने पुतिन के करीबी अधिकारियों पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी, जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप सार्वजनिक तौर पर कई बार कह चुके हैं कि वे पुतिन को पसंद करते हैं.

ये भी पढ़ें –

रूस के प्रधानमंत्री ने कैबिनेट सहित दिया इस्तीफा, राष्ट्रपति पुतिन ने सरकार को बताया विफल

Raisina Dialogue: रूस के विदेश मंत्री ने कहा- भारत को जल्द मिले UNSC की स्थायी सदस्यता

why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?
why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?

Related Posts

why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?
why called russia means vladimir putin, यूं ही नहीं बोलते ‘रूस मतलब पुतिन’, क्या नया पैंतरा है एक साथ पूरी मेदवेदेव सरकार का इस्तीफा?